गुरुवार, 12 फ़रवरी 2009

क्षमायाचना

प्रिय मित्रों,

 

    जीवन की अन्य व्यस्तताओं के चलते आप सब से बतियाने का आज समय नहीं निकाल पा रहा हूं   आशा है, अन्यथा नहीं लेंगे और अपना स्नेह बनाये रखेंगे

 

आपका ही,

 

सुशान्त सिंहल

१२ फरवरी २००९

 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपके विचार जानकर ही कुछ और लिख पाता हूं। अतः लिखिये जो भी लिखना चाहते हैं।