शनिवार, 28 फ़रवरी 2009

फोटोग्राफी क्लासरूम - ज़ूम लेंस का परिचय


सबसे पहले तो इस अध्याय की कई दिनों से प्रतीक्षा कर रहे मित्रों से क्षमा याचना करना चाहूंगा। कुछ व्यस्ततायें घेरे रहीं, जिनके कारण कुछ लिख नहीं पा रहा था।

  
 
आपको पिछले आलेख में मैने बताया था कि कैमरे के दो कार्य हैं -  १) किसी दृश्य को व्यू फाइंडर पर दिखाना  २) उस दृश्य को, यदि हम चाहें तो स्थाई रूप से किसी न किसी मीडिया पर अंकित कर देना ।   
 
कैमरा किसी दृश्य को अच्छी प्रकार से व्यू फाइंडर में दिखा पाये, यह मूलतः कैमरे की लेंस की क्वालिटी पर निर्भर 
करता है।  लेंस के डायमीटर का सीधा संबंध लेन्स की क्वालिटी से है - यह आप जान चुके हैं । अब आगे...
 
ज़ूम लेंस  (Zoom Lens)
 
आइये, ज़ूम लेंस (Zoom lens) के बारे में कुछ चर्चा की जाये।  कुछ वर्ष पहले तक कैमरों मे फिक्स फोकल लेंथ लेंस Fixed focal length lens हुआ करते थे। वह एक निश्चित कोण तक का एरिया कवर कर सकते थे।  (Those covered area upto a certain viewing angle.)  मान लीजिये आप अपने कमरे में परिवार के दस सदस्यों का group photo खींचना चाहते हैं तो आप उनको अपने से इतनी दूर खड़ा करते थे कि कैमरे के  view finder में सबके सब दिखाई देने लगें। यदि कमरे की दीवार से सट कर भी सब लोग कैमरे में दिखाई नहीं देते थे तो आप को कमरे से बाहर आंगन में आकर फोटो खींचनी होती थी या लेंस बदल कर wide angle lens लगानी होती थी ताकि वह ज्यादा एरिया कवर कर सके।  
 
दूसरी ओर, यदि आपको अपनी प्रेमिका की झील सी गहरी आंखों का  close up चाहिये होता था तो आप फोटो खींचने के लिये उससे बिल्कुल सट कर खड़े होते थे ताकि आपका कैमरा आपकी प्रेमिका की आंखों से दो-चार इंच दूर आ जाये।  उन दिनों,   लेंस तीन श्रेणियों में विभाजित होती थीं: 
 
* वाइड एंगिल लेंस  (ज्यादा बड़ा कोण बनता है इसलिये ज्यादा बड़ा एरिया कवर होता है)  
Wide Angle lens (It has bigger angle of view therefore covers wider area in front of it).

* टेलि लेंस (टेली अर्थात ’टेलिस्कोपिक’ -  दूर की वस्तुओं को नज़दीक ले आती है) 
Tele i.e. telescopic lens has a narrow angle of view,  can bring distant objects optically close to you just like a binocular or a telescope.  

* नॉर्मल (हमारी आंख के जितना ही एंगिल बनाती है अतः नॉर्मल कहलाती है।)
 
 Has got an angle of view quite similar to the viewing angle of human eye ( average 43 degree)  Gives a 'normal' appearance to our picture.  Objects appear in the picture as they appear to us visually.
 
वाईड एंगिल लेंस का उपयोग सीनरी, लैंडस्केप या ग्रुप (scenary, landscape or group photographs आदि 
के लिये होता है। यदि फोटोग्राफर के लिये पीछे हटने को स्थान न हो, अपनी फोटो में सब कुछ शामिल कर लेने की इच्छा हो तो यह लेंस बहुत काम की है। उदाहरण के लिये आप 50 mm lens  के बजाय 25 mm lens लगा कर angle of view दुगना कर देते हैं।     
 
टेलि लेंस जंगल में शेर-चीतों की फोटो wild life photography  के शौकीन या स्पोर्ट्स की फोटोग्राफी sports photography करने वाले प्रोफेशनल खरीदा करते थे।
 
 
कुछ ऐसे भी लोग थे जो किसी की फोटो खींचना तो बहुत चाहते थे, पर पास जाकर फोटो खींचने का साहस नहीं कर पाते थे।  ऐसे लोगों के लिये भी ये लेंस सहारा बन जाती है।  टेलि लेंस लगा कर दूर से ही निहारते रहो और चाहो तो फोटो भी खींच कर खुश हो जाओ! 
Stolen images may be captured with the help of telescopic lens.    
 
नॉर्मल लेंस वह लेंस था जो अक्सर कैमरे पर लगा हुआ आता था।  हम अपनी आंख से किसी वस्तु को जितनी दूर देखते हैं, नॉर्मल लेंस उतनी ही दूर दिखाता था।  
 
35 mm. cameras  सर्वाधिक लोकप्रिय कैमरे रहे हैं। अतः उसको ही स्टॅण्डर्ड मान कर चलते हैं।  इस दृष्टि से देखें तो 45 mm. से 55 mm. focal length रेंज हो तो लेंस नॉर्मल कहलाएगी।  45 mm से कम फोकल लेंथ (focal length)  हो तो लेंस वाईड एंगिल लेंस (wide angle lens)  मानी जायेगी।   55 mm. से अधिक focal length वाली लेंस टेलीलेंस मानी जाती हैं। 

100 mm.  की लेंस 50 mm की लेंस की तुलना में दुगना बड़ा चित्र बनायेगी मगर कवरेज छोटे कोण narrower angle पर होगी।  देखें संलग्न चित्र।       
 
यद्यपि ज़ूम लेंस में एक रिंग घुमाने मात्र से आप एक ही स्थान पर खड़े-खड़े दृश्य को अपने से दूर या पास कर सकते हैं पर कुछ वर्ष पहले तक (१० या पंद्रह वर्ष) ज़ूम लेंस महंगे भी थे और उनकी क्वालिटी भी संतोषजनक नहीं मानी जाती थी ।  इसलिये प्रोफेशनल फोटोग्राफर तो अपने बैग में तीन-चार लेंस लेकर घूमा करते थे।  जो इस विधा के प्रति बहुत समर्पित थे ऐसे फोटोग्राफर गले में तीन कैमरे भी लटकाये हुए दिखाई दे जाते थे।  (जितनी देर में लेंस बदलेंगे, उतनी देर में कहीं कोई अद्भुत दृश्य आंखों से ओझल न हो जाये) ।  एस. एल. आर. कैमरे का मुख्य आकर्षण भी यही था कि उसमें आप वाईड, नॉर्मल या टेली -(wide, normal or tele lens) कोई सा भी लेंस लगा सकते थे। पर जैसे-जैसे लेंस निर्माण तकनीक में सुधार आये हैं, ज़ूम लेंस की लोकप्रियता दिन दूनी - रात चौगुनी बढ़ती चली जा रही है।  कंपनियां कैमरे के साथ अब नॉर्मल ज़ूम normal zoom lens दे रही हैं।  (35 mm. कैमरे में जो लेंस 28-80 mm रेंज में कार्य करती थी, वही डिजिटल में 18-55 mm. range कहलाती है।  इस लेंस में थोड़ा वाईड (wide)  भी है और थोड़ा टेलि इफेक्ट (telescopic effect)  भी है।  इसलिये इसे सामान्य उपयोग की लेंस (general purpose lens) माना जाता है। 
 
 
कितने X की ज़ूम है? How much is the zoom magnification ?
 
कोई लेंस यदि 18 mm. focal length से शुरू हो कर 55 mm. पर समाप्त होती है तो इसका सीधा सा अर्थ यह है कि 18 mm. सैटिंग पर कोई वस्तु जितनी बड़ी दिखाई देगी, 55 mm. सैटिंग कर देने से वह लगभग तीन गुना बड़े आकार में दिखाई देगी।  इसलिये हम इस लेंस को 3x zoom magnification वाला लेंस कह सकते हैं।  यदि यह लेंस 18-135 mm. रेंज की होती तो हम इसे 7.5 X  zoom lens  कहते।  36-360 mm. रेंज हो तो लेंस 10X ज़ूम है।  आई बात समझ मां ?
 
ऑप्टिकल और डिजिटल ज़ूम Otical v/s. Digital Zoom 
 
कैमरे की लेंस एक कंपाउंड लेंस compound lens होती है जिसको खोल कर देखें तो ६ से लेकर १६ तक ग्लास एलिमॅंट (glass elements may be anywhere between 6 and 16) उसमे हो सकते हैं।  फिक्स्ड फोकल लेंथ लेंस Fixed Focal length lens में इन सब ग्लास एलिमेंट्स का स्थान (positioning of each glass element) निश्चित है पर ज़ूम लेंस में ज़ूम रिंग घुमाने से इनमे से कुछ ग्लास एलिमेंट्स एक दूसरे के नज़दीक या दूर हो जाते हैं (some glass elements move farther or nearer to other when we turn the zoom control)  और  उनके स्थान परिवर्तन से इमेज का आकार बदल जाता है। (This dislocation changes the image size -  making the image bigger or smaller)   यह ऑप्टिकल ज़ूम optical zoom कहलाता है।  डिजिटल ज़ूम digital zoom सिर्फ नज़रों का धोखा है।  डिजिटल ज़ूम digital zoom करने से सिर्फ पिक्सल का आकार बढ़ जाता है (only size of pixel increases) और हमें लगता है कि हम अपने सब्जेक्ट के पास पहुंच गये हैं पर यह काम तो आप कंप्यूटर पर किसी भी पिक्चर को ज़ूम करके कर सकते हैं।  बाज़ार में 450 X  डिजिटल ज़ूम भी देखने को मिल रही हैं - पर उनकी क्वालिटी - भगवान ही रक्षा करे! 
 
जानकार लोगों का कहना है कि 6 X मैग्निफिकेशन तक तो लेंस की पिक्चर क्वालिटी (picture quality of the lens) श्रेष्ठ स्तर पर रहती है पर ग्राहकों को प्रभावित करने के लिये यदि मैग्निफिकेशन 7 X  से ऊपर ले जाया जाता है तो पिक्चर क्वालिटी के मूल्य पर ही ऐसा किया जा सकता है। आखिर लेंस डिज़ायनिंग टेकनीक (Lens designing technology)  की भी अपनी कुछ सीमायें हैं।  
 
अतः मित्रों - फार्मूला न. २ -  6 X से अधिक ज़ूम मैग्निफिकेशन (zoom magnification) से अधिक की लेंस खरीदें तो क्वालिटी के मामले में उस बेचारी से बहुत ज्यादा आशायें मत रखें।  साथ ही, लेंस पर डिजिटल ज़ूम कितनी है - इसकी रत्ती भर भी परवाह न करें।  स्टिल कैमरे में इसका कोई महत्व मेरी दृष्टि में नहीं है। 
 
Sushant Singhal
www.sushantsinghal.blogspot.com
28 Feb. 2009 

8 टिप्‍पणियां:

  1. खूब अच्छी तरह समझा रहे हैं....इस कठिन विधा के बारे में आपकी सलाह मुल्यवान है.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही काम की और ईमानदार जानकारी दी है आप ने। मेरे जैसे लोग आभारी होंगे। इतनी प्रेक्टिकल जानकारी तो कोई शिक्षक भी नहीं दे सकेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. very good information. i got the information i sought about digital/optical zoom as well as about the functioning of the lens. as you encorage to write so i am writing that please do write some tips for the common man to know how to use a camera. i mean to say not technically but what makes a person a good photographer. if two persons use the same camera at the same place, why and what makes the differenc between a common and good photograph. thanks

    उत्तर देंहटाएं
  4. aapne bahut aachchha likha he.sir mere paas Nikon L-100 he mujhe malum he vo SLR camera nahi he but phir bhi usse mene bahut achchhe achchhe photos liye he.me aapse janna chahta hu ki usme jo setting di hue he unke bare me aap kuchh bataye...

    उत्तर देंहटाएं
  5. amazing sushant ji opticl zoom or digital zoom to m smj gya par ik baat btaiye apne kaha agar mm 45 mm se niche h to lense wide angle h iska mtlb ham 180* tk subject cover kr skte hain or agar lens 45 mm se jyada h to wo tele ho jata h pr mere pas Nikon l21 h usme lens 6.5 to 24mm h usme to photo click krne liye dur khda hona pdta h tab ja ke photo view finder pe ati h tell me somthing????

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Mr. Raj Dhimaan. Please read the article again. 45 mm. or less would be considered wide angle lens on a 35 mm. camera only. The camera owned by you is having a sensor smaller than 35 mm. Therefore, in your camera, 45 mm. would function like a tele lens.

      हटाएं
  6. श्री राज धीमान! मैं पिछले दो-तीन वर्ष से इस ब्लॉग पर कुछ भी नया नहीं दे रहा था इसलिये यह देखने भी नहीं आ रहा था कि कौन - कौन लोग इसे पढ़ रहे हैं, क्या कमेंट आ रहे हैं। आज संयोग से यहां आया तो आपके कमेंट मिले।

    मुझे लगता है कि आपको इस पोस्ट को पुनः पढ़ने की जरूरत है। 45 mm. की लेंस उस स्थिति में वाइड एंगिल मानी जाती है यदि वह 35mm. कैमरे पर लगी हुई हो। आपका कैमरा यदि डिजिटल है तो इस बात की रत्ती भर भी संभावना नहीं है कि वह 35mm. फ़ोर्मेट का कैमरा होगा। आपके कैमरे में 45mm. लेंस भी टेली लेंस ही है, जैसा कि लगभग सभी डिजिटल कैमरों में होती है।

    उत्तर देंहटाएं

आपके विचार जानकर ही कुछ और लिख पाता हूं। अतः लिखिये जो भी लिखना चाहते हैं।